Search

Literary Lemonades

musings of a wanderer

Tag

Hindi

यूँ ही कभी कभी

Sometimes, I write about how much I don’t want to write. Sometimes, I am unable to write because I have just finished a beautiful book.  Sometimes, it’s just the good old writer’s block. Confused?

Continue reading “यूँ ही कभी कभी”

धर्म के अर्थ

This poem is about the increasing violence in the name of religion by people who probably do not understand the concept of religion in itself.

Continue reading “धर्म के अर्थ”

बीता हुआ जीवन

यह कविता एक मरते हुए व्यक्ति के आखिरी विचार हैं, जब वो ये चिन्तन कर रहा है कि उसने जीवन में आख़िर क्या खोया और क्या पाया ।

Continue reading “बीता हुआ जीवन”

जीत और हार

हर खामोशी के पीछे एक सैलाब उमड़ने कॊ है खड़ा,
पर दुनिया के इन सवालों में कुछ तेज़ाब हॊता है 
इंसान सोचता है कभी मिलेगा एक पल सुकून का
पर कुदरत का खुशी से कुछ इंतकाम होता है 

Continue reading “जीत और हार”

A WordPress.com Website.

Up ↑

%d bloggers like this: