धर्म के अर्थ

This poem is about the increasing violence in the name of religion by people who probably do not understand the concept of religion in itself.

ना पहनते रामनामी तन पर अगर हम,
बस सत्यवाद का कभी किसी नें तप लिया होता ।
ना लुटाता कोई दान में हीरे या मोती,
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जो होता ।

जीवन रहता धर्माडंबरों सॆ दूर पर
सत्यवाद का कभी किसी नें तप लिया होता ।
धर्मो के नये अर्थ निकालने से पहले
कभी धर्म को समझने का प्रयत्न किया होता ।

ना होती तब एक दुनिया में तब इतनी कई दुनिया,
ना होती तब एक माटी पर इतनी कई माटी,
ना होती रोज के खेल जैसी ये हिंसा.
रक्त नहीं, फूलों से महकती धरती की घाटी ।

8 thoughts on “धर्म के अर्थ

Add yours

  1. उस उम्र में इतनी बड़ी सोंच और उसे पन्नो में सहेजा।लाजवाब।बहुत ही खूबसूरत रचना है।

    Like

  2. बहुत ही खूबसूरत रचना।उस उम्र में इतनी बड़ी सोच और उसे पन्नों में सहेजना वाकई लाजवाब।

    Liked by 1 person

Leave a Reply to Rohit Nag Cancel reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

A WordPress.com Website.

Up ↑

%d bloggers like this: